Shri Hanuman

Size: 30 X 36 inches (Width X Length)
Surface : Canvas
Category : Gond Painting / None / Canvas

₹ 15790(Inclusive of Packaging, Shipping and GST)

Available Stock : 1

जब हनुमान लंका दहन किया था और वह अपने पूंछ की आग बुझाने के More िए समुद्र में डूबा तो उसके शरीर में इतनी करमी थी कि समुद्र में उसका विर्य पात हो गया और फिर उसे एक मछली ने खा लिया और वह गर्भवती हो गई और फिर उसने एक बच्चा पैदा किया उसी समय पाताल लोक के राक्षस अहि रावण और महिरावण भ्रमण में लिकले थे कि वह बालक अहि रावण और महिरावण को मिला और उसे अपने पास ले गए और उसका पालन पोषण किया और उसका नाम मकर ध्वज रखा और फिर उसने एक दिन बड़ा होकर हनुमान जी की तरह सकती शाली बन गया और फिर उसे द्वार पाल का काम करने के लिए उसे द्वार पाल बना दिया गया और फिर उसी समय पाताल लोक के राक्षस अहि रावण और महिरावण राम लक्ष्मण को बन्दी बना कर पाताल लोक में ले आये तब हनुमान जी राम लक्ष्मण को छुड़ाने के लिए आये तब मकर ध्वज ने रोका और फिर उसने हनुमान को अंदर जाने से मना किया तभी हनुमान ने कहा तू कौन है जो मुझे अंदर जाने से मना कर रहा है तब मकर ध्वज ने कहा कि मै श्री हनुमान पुत्र मकर ध्वज हूँ तो उसी समय की ये ग्यान है।। तू भी ज्ञानी मै भी ज्ञानी ज्ञान ज्ञान के लोइ ।।तेरा बाप कुवारा भई फिर तू कित्ता बड़ा होई ।। Less
This product is not returnable

Similar Products